संदेश

रबर बलून विजनस 500₹ से शुरू ।

चित्र
गुव्वारे 🎈💃
रबर बलून से तो सभी परिचित है जिनहे फुग्गा और गुब्बारा भी कहा जाता है । हम सभी ने अपने बचपन मे जरूर गुब्बारे खेले होगे ।गुब्बारे बच्चो की पसंद होते है ।
गुब्बारे बैचने का का काम सबसे कम लागत मेहनत का काम है । आदमी इस काम को मात्र500 रूपए की लागत से शुरू कर सकता है ।इसे करने के लिए दो चार छोटी  छोटी वस्तुओं की जरूरत होती है जो कही भी स्थानीय बाजार मे आसानी   से  मिल जाती है ।वह है _ डंडे 2 ' हवा हेंड पंप ' गुब्बारे का पेकिट ' गुब्बारा केप पेकिट ' मेटे धागा की रोल ' बस  इस काम मे इनही की जरूरत होती है ।
कैसे करै ।
ऊपर बताए गए सामान को बाजार से खीदे जो 500₹ की कघीमत मे पूरा मिल जाएगा । इसे अपने घर पर लाए और घर बैठकर दोनो डंडो को T आकार का बनाए फिर फुग्गे पंप से फुला फुला कर  उनके मुह पर प्लास्टिक की केप लगाते जाए और फुग्गो को धागे से बॉधकर T डंडे पर लटकते जाए जब डंडे पर फुग्गो का झुड बन जाए  तो समझे आपकी दुकान तैयार है । अब  अपनी दुकान लेकर फुग्गे बैचने के लिए चल दे ।अगर साइकिल की सुविधा हो तो और वहतर होगा । क्योंकि गुब्बारे बेचने का काम फेरी लगाकर किया जा…

फिल्म 'पदमावत ' पर सुन्हरी धूप ।

चित्र
संजय लीला भंसाली की फिल्म पदमावती का निर्माण  2016 मे शुरू हूआ । जनवरी 2017 मे जयपुर मे फिल्म की शूटिंग के दोरान सेट पर ' राजपूत करणी सेना ' ने हय कहते हुए फिल्म का बिरोध किया की इस फिल्म मे राजपूत रानी पदमावती के इतिहास को तोड मरोड कर पेश किया जा रहा है जो राजपूतो का अपमान है ।तभी से यह फिल्म विबादो मे आ गई । इस फिल्म की कहानी चित्तोड की रानी पदमावती पर  आधारित है । जिसे रोमांचक ढंग से पेश किया गया है । रानी पदमावती की भूमिका मे आभिनेत्री दीपिका पादुकोण है जो रानी के रूप मे खूव जच रही है ।
इस फिल्म पर रोक लगाने के लिए सुप्रिम कोर्ट मे भी याचिका दायर की गई थी जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया । आखिरकार  फिल्म पदमावती घनघोर बिरोध के बाबजूद भी पदमावत के नाम से  24 जनवरी 2018 को रिलीज हुई इस दिन भी देश भर के अलग  अलग कोनो मे पदमाव का विरोध हुआ तोडफोड की खबरे भी आई ।
पर  अब जल्द ही पदमावत के उपर से संकट के बादल छटेगे और फिल्म पदमावत पर सुन्हरी धूप पडेगी । क्योंकि फिल्म विबादित  होने के कारण मीडिया मे सुर्खियो मे रही और लोगो की चरचा का विषय बनी इसलिए इस फिल्म का मुफ्त मे खुब प्रचार हुआ …

कमाई करने के सरल तरीके ।

चित्र
इस संसार मे हर आदमी  को अपनी जरूरते पूरी करने के लिए मेहनत करनी पडती है । आदमी को जीवन जीने के लिए कुछ ना कुछ काम धंधा करना जरूरी होता ।जिन लोगो को धन  एवं सभी सुख सुविधाए विरासत मे अपने बाप दादा से मिलती है उन्हें भी कुछ कम पर मेहनत तो जरूर करनी पडती । इस संसार मे मुफ्त मे कुछ नही मिलता हर चीज की कीमत चुकानी पडती है चाहे वह किसी भी रूप मे चुकाई जाए ।
आदमी अपनी जिंदगी चलाने के लिए दो तरह से मेहनत करते है एक शारीरिक श्रम और दूशरा दिमागी मेहनत ' अकुशल  आदमी अपना जीवन यापन करने के लिए शारीरिक मेहनत मजबूरी मे करता है जिसे हम मजदूरी कहते है । या अपने जीवन का सुनहरा समय किसी को मासिक किस्तो मे बैच देता है जिसे हम नोकरी करना कहते है । शारीरिक श्रम के काम से आदमी इतनी ही कमाई कर पाता है जिससे उसकी बुनियादी जरूरते रोटी कपडा और मकान ही बामुशकिल पूरी हो पाती है ।
स्मार्ट बर्क _दिमागी मेहनत करना सब पसंद करते है पर जानकारी की कमी के कारण सभी लोक यह नही कर पाते ' जिन लोगो ने जीवन के शुरुआती दिनो मे मेहनत से पढाई लिखाई करके कमाई का हुनर सीखा होता है वही लोग स्मार्टवर्क करने मे सफल होते है । …

बालू रेत के रंगीन पत्थर ।

चित्र
नदियों की बालू रेत मे पाए जाने वाले चमकदार  और रंगीन पत्थर सबका मन मोहते है खासकर बच्चों के लिए तो यह रंगीन पत्थर हीरे मोती के बराबर होते है ।हम भी जब कभी नदियों मे नहाने जाते है और नरम रेत पर बैठते है तब हम भी इन पत्थरो से प्रभावित होकर सुन्दर सुन्दर चमकीले पत्थर चुन चुन कर बीनने बटोर कर  इकट्ठा कर लेते है ।फिर जब हम घर चलने लगते .है तो मन करता है की हम  इन पत्थरो को अपने साथ रख ले पर फिर सोचते है की आखिर हम  इन पत्थरो को घर लेजाकर क्या करेगे और पत्थरो को नदी मे ही छोड  आते .है ।
कुदरत की इस अनुपम कलॉ कृति "बालू रेत के रंगीन पत्थरो " का अगर  उपयोग किया जाए तो मकानों की दीवारो और फर्श की सजाबट के लिए यह पत्थर बडे काम की चीज है । लोग मकान बनाने के लिए बालू लाते है और  उसमे से इन रंगीन पत्थरो को छान कर  बेकार समझकर फेक देते है । अगर सूझबूझ से इन पत्थरो का उपयोग मकान की दीवारों पर कलॉ कृतियॉ बनाने मे किया जाए तो इन रंगीन पत्थरो का सद  उपयोग होगा । अभी तक तो रेत ले निकले रंगीन पत्थरो का उपयोग सीमेंट की टाइलस बनाने मे किया जा रहा है ।इसके अलाबा इनका कही कोई विशेष उपयोग नही होता …

नाम बडे और दर्शन छोटे ।

चित्र
हिंदुस्तान मे हिन्दुओ के देवी देवताओ की एक बडी संख्या है । हिन्दुओं के अनुसार हिन्दु धर्म के कुल 33 करोड देबी देवता है । भारत मे मंदिरो की भी कमी नही है । हर गॉव मे दो चार मंदिर होते है । शहरो मे तो भारी लागत से बडे बडे मंदिर बनाए गए है तीर्थ स्थानो पर तो शाहर मे जितने मकान होगे उन्से कुछ ही कम मंदिर होगे । पहाड़ों की चोटियो पर मंदिर बने है । जिन्है देखने के लिए लंबी चढाई चढना पडता है ।कुछ फेमस मंदिरो के सामने तो हमेशा भारी भीड़ होती है ।जिसे देखकर लोग सोचते है अगर  इतनी संख्या मे लोग मंदिर देखने आते है तो जरूर भीतर कुछ चमत्कार होगा पर जब  भीतर जाकर देखते है तो पाते है वही साधारण सी मूर्ती है जो हमारे गॉव के मंदिर मे होती है ।मंदिर भी उसी ईंट पत्थर सीमेंट से बना है जिससे सभी मंदिर बने है ।कुल मिलाकर दूर के ढोल सुहाने होते है ।

सुपरहिट गाने ।

चित्र
पुराने दोर से लेकर  आज तक के सबसे सुपरहिट गाने जो दिल को छू  जाते है और हमे प्रेम की गंगा मे बहाकर प्रेम के सागर मे डूबा देते है । तो आइए हम भी डूबे  प्रीत के इस सागर मे और महसूस करे अपने अपने प्यार के अहसास को  ।

बीमार पर रिस्तेदारों की मार ।

हमारे समाज मे ब्यक्ति का बीमार होना किसी गुनाह से कम नही है ! क्योंकि हमारा समाज  इसकी कडी सजा देता .है ।     आइए जाने कैसे ।
जब भी कोई बीमार होता है तो सबसे पहले तो डॉक्टर उसकी बीमारी को बढा चढा कर बताता है और मरीज को वा उसके परिवार बालो को डरा कर खूब पैसा खीचता है । पहला नुकसान तो ब्यक्ति का काम पर न जाने का होता है बीमारी के कारण ' दुशरा नुकसान इलाज पर रूपए खर्च होने का होता है । तीशरा परिवार का एक सदस्य  और काम पर नही जा पाता वह मरीज की सेवा मे रहता है । चौथा नुकसान बीमार  आदमी को देखने आने बाले करते .है दोस्त यार नाते रिस्तेदार बीमार  आदमी को देखने आते है । क्योंकि पता नही फिर वह देखने को मिलेगा या नही । मरीज के घर की औरते मरीज को देखने आने वाले महमानो के चाय नास्ते मे ही लगी रहती है । भारत के दिहाती इलाको मे अगर किसी को साधारण बुखार भी आ जाता है और  इसकी भनक रिस्तेदारो को लग जाती है तो वह  उसे देखने जरूर  आते है आखिर रिस्तेदार होते किस लिए है सुख दुख मे साथ रहने के लिए ही ना । बीमार  आदमी को आराम की जरूरत होती है पर दर्शनाथियो की भीड बीमार  आदमी की तबियत  और खराब करती है ।