मंगलवार, 5 जनवरी 2016

चारोली की खेती ।

चारोली _ चार' पयाल ' नामक पेड के पके फलों की गुठली से निकलने वाली गिरी चारोली होती है । चारोली एक कीमती मेवा है ।जिसका बाजार मूल्य 1000 रू किलो होता है । चार के पेड़ भारत के जंगलों मे प्राकृतिक रूप से पाये जाते है । जो मध्यप्रदेश के जंगलों मे सबसे अधिक पाए जाते है । पर  अब  इनकी संख्या घटती जा रही है । 
चारोली की बढती मॉग को देखते हूए ' देश मे कही-कही चारोली की खेती के प्रयास किए जा रहे है ।जो सफल हो रहे है । भविष्य मे चारोली की खेती एक लाभ के धंधे के रूप मे उभर कर प्रकाश मे आएगी ।
चरोली की खेती करने के लिए ' सबसे पहले पैधे तैयार करना होता है ।इस बिधि मे चार पेड के पके फलो की गुठलीयो को हल्की ठोकर से थोड़ी -थोडी चटकाने के उपरांत इनहे जून माह के अंत मे पहली बारिश के बाद जमीन मे दबा दिया जाता है । जो बारिश मे उग जाती है ।( यह प्रयोग किया जा चुका है जो सफल रहा ) एक साल बाद  इन पौधों को खेतों मे रोपण कर दिया जाता है ।जो पॉच -छह साल बाद  उत्पादन देने लगते है । पहले साल  उत्पादन कम होता है । पर जैसे जैसे पेड़ बढते जाते है बैसी उत्पादन मे बढोत्री होती जाती है । चार  एक बहू बर्षीय जंगली पेड़ है । जो साल मे एक बार गरमीयो के मोसम मे आम के साथ ही फलता फूलता है । एक विकसित चार के पेड़ मे 10 से25 किलो तक गुठलियॉ निकलती है ' यह गुच्छो मे फलता है । इसके पके फल भी बहुत ही स्वादिष्ट होते है ,। यहाँ शायद यह कहना उचित होगा कि_ चार के चार और गिरी का व्यापार ' ।
Seetamni@gmail. com
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

रबर बलून विजनस 500₹ से शुरू ।

गु व्वा रे 🎈💃 रबर बलून से तो सभी परिचित है जिनहे फुग्गा और गुब्बारा भी कहा जाता है । हम सभी ने अपने बचपन मे जरूर गुब्बारे खेले होगे ।गुब...