संदेश

January 29, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

किराए पर ' खरीद की सुविधाएं ।

RENT TO CASH  किराए पर खरीद ।
किराए का इतिहास जाने तो सबसे पहले रेंट की शुरुआत इंग्लैंड में हुई थी ।इसके बाद किराए पर खरीद का चलन पूरी दुनिया मे होने लगा । यह  एक क्रय- बिक्रय- अनुबंध है । जिसे किराया या इंग्लिश मे रेंट कहा जाता है ।
किराए पर वस्तुएं खरीद के लाभ ।

गरीब आदमी भी मेहगीं सेवाओं का उपयोग किराए पर कर सकता है ।जो लोग कीमती संपत्ति खरीदने मे असमर्थ होते है 'उन्हें मकान जमीन आदि किराए पर लेना आसान हो जाता है ।किन्हीं सेवाओं ' वस्तुओं का उपयोग व्यक्ति बहुत कम समय के लिए ही करते है ।एसी स्थित मे उन वस्तुओं को किराए पर लेना ही उचित होता है ।किराए पर संपत्ति लेने का सबसे बडा फायदा यह है कि अल्प पूजी से ही काम चल  जाता है एवं नगद मुद्रा भी बची रहती है ।सबकुछ मिलता है किराए पर ।
आज भारत मे भी बहुत कुछ किराए पर मिलने लगा है । जो हमने कभी सोचा भी नहीं होगा 'जैसा कि आज भारत मे बच्चे पैदा करने के लिए भी कोख किराए पर मिलतीं है ।जिनका नौ महिने का किराया 50 हजार से एक लाख तक होता है ।विदेशी लोग भारतीय कोख किराए पर लेना जादा पसंद करते है । क्योंकि भारतीय नारीयॉ शराब सिगरेट नहीं पीती…