बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

गरीबी मिटाने का ' बृहम् अस्त्र ' ।

गरीब आदमी चाहे तो वह मात्र छह महिने मे अपने घर परिवार की निर्धनता मिटा सकता है । इसका विकल्प है 'मुद्रा पंजी ' जिसके अधार पर  अमल करते हुए चल कर ' व्यक्ति गरीबी से छुटकारा ले कर  अमीरी की राह पर  अगे बड सकता है ।और धन संपंन होकर खुशहाल जीवनशैली जी सकता है ।

अब  आप कहेगे कि आखिर यह ' मुद्रा पंजी ' है क्या ! 
इसे समझने के लिए हम नीचे इसका प्रारूप उदाहरण के लिए दे रहे है ।जिसके आधार पर कोई भी अपने घर की मुद्रा पंजी बना सकता है ।
                            मुद्रा  पंजी 
मासिक आय व्यय का ब्यौरा ।
पहला महिना

  1. सट्टा ' गॉजा ' तम्बाकू '  चाय ' शराब ' आदि पर खर्च = 2000₹  
  2. यत्रा ' रिस्तेदारी ' त्योहार ' जेवर ' दान ' आदि पर खर्च =2000₹
  3. भोजन ' कपडा ' मकान ' पढाई ' बीमारी ' आदि पर खर्च =6000₹
  4. कुल मसिक खर्च =10000₹
  5. कुल मासिक आय=8000₹
  6. कुल मासिक कर्ज =2000₹=10000₹ ।
दुशरा महिना

  1. सट्टा _______________आदि पर गैर जरूरी खर्च=×
  2. यात्रा________________आदि पर शौक ' चाहते पर खर्च =×
  3. भोजन 'कपडे ' मकान ' पढाई आदि पर अनिवार्य जरूरत खर्च=6000₹
  4. कर्ज  चुकाने पर खर्च =2000₹
  5. कुल मासिक आय =8000₹  आय व्यय बराबर ।
तीसरा महिना

  1. गैर जरूरी खर्च ××××××× ।
  2. शौक चाहते खर्च ×××××× ।
  3. अनिवार्य जरूरत खर्च = 6000₹
  4. कुल मासिक आय =8000₹
  5. कुल मासिक बचत =2000₹
चौथा महिना

  1. अनिवार्य जरूरतों पर खर्च =6000₹
  2. कुल मासिक  आय =8000₹
  3. कुल मासिक बचत =2000+2000 पिछले माह =4000₹ बचत ।
पॉचवा महिना

  1. अनिवार्य जरूरतों पर खर्च=5000₹
  2. धंधे पर खर्च =7000₹
  3. खर्च ' बचत ' आय ' व्यय सब बराबर ।
छटा महिना 

  1. यात्रा 'त्योहार आदि पर खर्च=1000₹
  2. अनिवार्य जरूरतों पर खर्च=6000₹
  3. कुल मासिक आय =10000₹ दस हजार रू ।
कुल मासिक बचत=3000₹ । 
कुछ इस तरह से व्यक्ति अपने जीवन मे खुशहाली ला सकता है ।लेकिन  उसे हर हाल मै उपरोक्त 'मुद्रा पंजी ' को अपने जीवन मे अपनाना जरूरी है ।
आप हमें ईमेल भी कर सकते है seetamni@gmail. com पर ।
____________\\_\\____________\\_________\\\___________\\_____

रबर बलून विजनस 500₹ से शुरू ।

गु व्वा रे 🎈💃 रबर बलून से तो सभी परिचित है जिनहे फुग्गा और गुब्बारा भी कहा जाता है । हम सभी ने अपने बचपन मे जरूर गुब्बारे खेले होगे ।गुब...