सोमवार, 22 अगस्त 2016

धन संग्रहण का सच ।

धन संगृह के एक बहुत बडे सच का खुलासा ' क्या है ?
ओशो ने अपने उदबोधन मे संपत्ति इकट्ठा करने का  एक बडा सच  उजागर किया है । ओशो ने कहा है कि _ बिना चोरी और बेईमानी के संपत्ति इकट्ठी करना असंभव है ' यह कभी भी संभव नहीं रहा ' आज भी संभव नहीं है ।
{यह बात  ओशो की पुस्तक 'जीवन रहस्य ' के पेज नं 119 के पैरा 3 पर लिखित प्रमाण है ।}
हमें अपने समाज का गहराई से अबलोकन करने पर  उपरोक्त कथन सच सा पृतीत होता है । हम समाज मे देखत़े है कि झेठ ' चोर ' धोखेबाज  और बेईमान लोग धनी बन जाते है एवं ईमानदार कडी महनत से पसीना बहाकर भी ब मुसकिल दो जून की रोटी ही कमा पाता है ।और हमेशा निरधन ही रहता है ।

💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼💼
Seetamni@Gmail. com

रबर बलून विजनस 500₹ से शुरू ।

गु व्वा रे 🎈💃 रबर बलून से तो सभी परिचित है जिनहे फुग्गा और गुब्बारा भी कहा जाता है । हम सभी ने अपने बचपन मे जरूर गुब्बारे खेले होगे ।गुब...