रविवार, 30 अक्तूबर 2016

मध्य भारत की दीपावली ।

🌋 दीपावली 🌋
दीपावली हिन्दू धर्म के लोगो का सबसे बडा त्योहार है । यह त्योहार पूरे भारत मे अलग  अलग मान्यताओं  और रीती रिवाजो के साथ मनाया जाता है । आईए हम  आपको मध्य भारत के ग्रामीण  अंचलो मे मनाए जाने वाले दीवाली के त्योहार के बारे मे बताते है ।
दशहरे के बाद से इस त्योहार की तैयारी शुरू हो जाती है । घरो की साफ सफाई ' छवाई पुताई के साथ ही घर की सभी बस्तुए धो पोछ कर साफ सुथरी की जातीं है । खराब चीजे कबाडियों को बैच दी जातीं है । घरों की पूरी सजावट के बाद नये शिरे से घरों मे वस्तुएं जमाईं जाती है जैसे नया जीवन शुरू किया जा रहा है ।
दीवाली के बाजार _ दीपावली से पहले लगने वाले साप्ताहिक हाट बाजारों का अपना महत्व होता है ।जो लोग कभी भी बाजार नही जाते वह लोग भी खासतोर पर दीवाली के बाजारों मे वस्तुए खरीदते देखे जाते है ।क्या गरीब  और क्या अमीर सभी लोग  इन बाजारो मे दिल खोल कर पैसा खर्च करते है और खूब सामान खरीदते है 'सामान भी क्या? रंग पेंट ' फुलझडी पटाखे ' मोर पंख ' दिया ' लक्ष्मी की मूर्ती ' सजावट के सामान 'और खाने पीने की वस्तुएं  आदि की इन बाजारो मे बहुत बिकवाली होती है । भारी भीड के साथ ही इन बाजारों की रोनक देखते ही बनती है ।
धन तेरस _ इस दिन धातु खरीदने का खास महत्व होता है ।  इसलिए लोग पीतल ' स्टील ' ताँवे के बर्तन  इस दिन खरीदते है । हर कोई कुछ ना कुछ धातु की चीज जरूर खरीदता है ।
छोटी दीपावली _  दीवाली के एक दिन पहले होती है छोटी दीपावली इस दिन हिन्दू लोग  अपनी गाय को नहलाकर  उसके सींघ रंगते है फिर गले मे घटी माला और गजरा पहनाकर ' उसके सिर पर मोर पंख बॉधते है ।इस दिन सजी धजी गाये पूरी 'कामधेनू ' ' लगतीं है । शाम को गाय की पूजा होती है ।
🎆 दीपावली🎆 कर्तिक की अमावश्या का दिन  और रात खास होते हैं । इस दिन दीपावली होती है । दिन मे धन की देवी लक्ष्मी और धन के देवता कुवेर भगवन की पूजा की जाती है साथ ही घरों मे मिठाईयॉ और पकवान बनाए खाए जाते है । लोगो का एक दुशरे के यहाँ निमंत्रण होता है । महमानो को पकवान जिवाए जाते है ।सारे दिन हर्ष उल्लास के साथ दीपावली मनाई जाती है ।
दीपावली की रात _ यह अमावश्या की रात होती है पर  इस रात मे पूनम से भी आधिक चकाचोंध होती है ।हर घर का कोन कोना दियो और झालरो की रंगीन रोशनी से रोशन होता है । एसा लगता है जैसे स्वर्ग जमीन पर  आया है इस रात मे दीवाली मनाने के लिए ।
फुलझडी पटाखे _ बच्चे उछलकूद करते हुए फुलझडियॉ जला रहे होते है ' तो कुछ बच्चे रंगीन चिंगारी बाली चक्री चला रहे होते है । आसमान मे जाकर फूटने वाले पटाखे और जमीन पर बम पटाखो का धूम धडाका चारों तरफ शोर ही शोर पटाखो की गूज मे मदमस्त लोग दीवाली की पूरी रात पटाखे  जलाते है ।
गोर्वधन पूजा _ दूशरे दिन घर के आंगनो मे गोवर की पहाडी बनाई जाती है जिस पर पौधे लगाकर  उसे सजाया जाता है ।इसके बाद  उसकी पूजा होती है ।
भाई दूज _ दीवाली के तीशरे दिन भाई दूज का त्योहार होता है ।इस दिन बहने अपने भाईयो को अपने यहाँ निमंत्रण पर बुलाती है और  उनहे खीर पूडी खिलातीं है ' वहीं भाई भी अपनी बहनो को भेट मे नये वस्त्र रुपये आदि देते है । इसी के साथ समाप्त होता है मध्य भारत की दीपावली का त्योहार ।
___________________________________________________________________________

रबर बलून विजनस 500₹ से शुरू ।

गु व्वा रे 🎈💃 रबर बलून से तो सभी परिचित है जिनहे फुग्गा और गुब्बारा भी कहा जाता है । हम सभी ने अपने बचपन मे जरूर गुब्बारे खेले होगे ।गुब...