संदेश

March, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विडियो बनाने वाली कमीज ।

चित्र
आपराधिक गतिविधियों को रोकने या कम करने अथवा अपराधियों को पकडवाने का एक नायाव तरीका है ।विडियो बनाने वाली कमीज  इस कमीज सर्ट को पहन कर कभी भी कहीं भी किसी का भी विडियो खिचा जा सकता है ।
यह कमीज हमे खुद ही अपने टेलर से बनवाना होता है ।जिसमे सीने पर दो ढक्कन वाले जेव लगवाए जाते है । यह जेव पॉकेट  आपको अपने मोवाइल फोन सेट के आकार के हिसाव से लगवाने पडते है । जेव मे मोवाइल रखने पर वह पूरी तरह फिट बैठे । और सबसे खास बात दोनो पॉकेट पर छोटे आकर के कॉज नुमा छेद बनवाए जाते है जिन्मे से मोवाइल केमरे का लेंस बाहर के सीन साफ देख सके । बाहर से देखने पर यह छेद साफ नही दिखने चाहिए और दिखे भी तो लोग  इन्हे डिजाइन समझे ।दूसरे पॉकेट पर छेद केवल लोगो को गुमराह करने के लिए लगवाया जाता है । अब  इस कमीज को पहन कर  इसकी जेव मे अपना मोवाइल केमरा चालू करके रखे और  अपराधियों के विडियो बनाए किसी को पता भी नही चलेगा ।
विडियो बनाने का यह तरीका आजमाया हुआ है जो सफल है । यदि समाज मे सी सी टीवी केमरे की तरह ही सभी लोगो की पॉकेट पर भी केमरे लग जाए तो समाज मे आपराधिक गतिविधियो पर लगाम लग सकती है ।
ईश्वर करें एसा ही हो …

भविष्य मे खेती का रूप ।

चित्र
आज परंपरागत खेती करना घाटे का सोदा शिद्ध हो रहा है । इसलिए आने वाले समय मे खेती का स्वरूप बदलेगा 'और खेती मे यह बदलाव समय की मॉग है ।
बैज्ञानिक खेती _आगामी समय मे वैज्ञानिक खेती ही लाभदायक शिद्ध होगी ।खेती वाडी के सभी काम वैज्ञानिक तरीको से होगे एवं कृषि वैज्ञानिकों की सलाह से ही खेती का हर काम करना ही कृषक के लिए हितकर होगा ।
रासायन रहित खेती _आज खेती मे रासायनो के दुष्परिणाम सामने आ रहे है ।इसलिए भावी समय मे रसायन मुक्त खेती ही होगी । खेतो मे गोबर की देशी खाद 'और  आयुर्वेद कीटनाशक दवाओं का ही अधिक उपयोग होगा ।
जल प्रबंधन _ आने वाले वर्षों मे बरसा कम होने से भूमी गत जल स्तर घटेगा । इसलिए खेत का पानी खेत की जमीन मे ही रहे इसके लिए खेतो मे मेड बंधान ' सोखता गड्ढे ' तालाव  आदि के इतजाम करने होगे ।
पोली हाउस खेती _ खेती मे आने वाली सभी समश्याओ को कम करने का तरीका है पोली हाउस मे खेती करना । पोली हाऊस मे तापमन नियंत्रण करके कम पानी कम जमीन पर बारह महिने किसी भी मोषम मे कोई भी फसल लगाई जा सकती है ।और फसल  उत्पादन लिया जा सकता है । इन सुविधाओ को देखते हुए पोली हाउस खेती का दाय…

राशि के शुभ पेड पौधे ।

चित्र
हमारी राशि पर ग्रहो के अशुभ प्रभाव को रोकने के लिए ज्योतिषी हमे रत्न धारण करने की सलाह देते है । पर  असली रत्न बहुत मेहगे मिलते है । और हर  आदमी इन्हे नही खरीद सकता इसलिए इनके स्थान पर  उपरत्न धारण किये जाते है । पर यह  उपरत्न ग्रहो के असर को पूरी तरह नही रोकते केवल हमारी शंका का ही समाधान होता है ।
इन मेहगे रत्नो के स्थान पर मुफ्त के पेड पौधे भी अपने घर पर लगाए जा सकते है । जो रत्नो की ही तरह ग्रहो के असर को रोकने मे सक्षम होते है । जाने की किस राशि के लिए कौन सा पेड पौधा शुभ होता है । और  अपनी राशि के अनुसार उसे अपने घर पर लगाए ।
राशियॉ  _ पेड या पौधा ।
मेष _ अन्तमूल
बृषक _ शंखपुखा 
मिथुन _ विधारा
कर्क _खिरनी
सिंह _ बील
कन्या _ विधारा
तुला संखपुखा
वृश्चिक _ अन्तमूल
धनु _हल्दी केना
मकर  _ बथुआ
कुभ _ बथुआ
मीन _ हल्दी केना ।

सफलता पाने का मंत्र !

चित्र
मंत्र _ क्या ' क्यों ' कैसे ' कब ' कितना ' !

क्या _क्या करें ' क्या काम करें । हर  आदमी के लिए जीवन जीने के लिए कुछ न कुछ काम करना तो जरूरी होता है । पर क्या काम करे ।यह निश्चित करना भी बहुत जरूरी है ।अपनी आत्मा से पूछे ।और  अपनी योग्यता 'क्षमता के अनुसार काम का चुनाव करे । यह पक्का निश्चय करे की हमे यह काम करना है । इसके बाद ही काम शुरु करे ।
क्यों _क्यों करें ।हम यह काम क्यों करना चाहते है । इससे हमे क्या मिलेगा । हम क्या पाना चाहते है । दोलत  इज्जत शोहरत ताकत मोक्ष  आदि मे से क्या हम पाना चाहते है । इस काम के पीछे हमारा उद्देशय क्या है ।क्योंकि हर काम के पीछे कोई ना कोई उद्देश्य जरूर होता है । इसलिए यह स्पस्ट होना चाहिए की इस काम के पीछे हमारा यह मकसद है और  इस मकसद के लिए हम यह कर रहे है । तभी काम करें ।
कैसे _कैसे करें । इस काम की बिधि क्या है ।इसका तरीका क्या है । यह काम कैसे होगा । यह समझने के बाद जव पूरा यकीन हो जाए की यह काम  इस तरह से होगा और मे इसे कर सकता हू । तभी वह काम करें ।
कब _ कब करें । किसी भी काम का एक समय  एक  आयु होती है ।इसलिए हय निश्चित …

चावल का तेल स्वास्थ्य बर्धक है ।

चित्र
किसान धान पैदा करता है । और  उस धान से चावल बनवाने के लिए । धान से चावल निकालने वाले संयंत्रों (चक्की ) पर जाकर  अपनी धान के चावल बनवाता है ।और चक्की बाले को चावल बनाने के रूपये भी देता है और धान की भूसी भी फ्री मे देता है । जवकी किसान यह नही जानता की यह धान की भूसी कितनी कीमती होती है । जिसे यह चक्की बाले मेहगे दाम पर बेचतें है । क्योंकि इस चावल की भूसी से तेल निकलता है जो खाने के काम  आता है । धान के इस तेल को 'राइस ब्रान  अॉयल ' के नाम से जाना जाता है । 100 किलो धान की भूसी से लगभग 15 लीटर तक तेल निकलता है ।इसके बाद बची खली से पशु आहार बनता है । यह धान का तेल पाचक तेल के रूप मे लोकप्रिहै ।और यह तेल स्वास्थ्य बर्धक भी माना जाता है । क्योंकि इसमे कोलेस्टॉल को कम करने की ताकत होती है ।इसलिए आम खाद्य तेलो से यह तेत मेहगा होता है ।एशियाई देशों मे राइस  अॉयल खाने मे अधिक उपयोग होता है । पर  अब भारत मे भी इस तेल की मॉग बढ रही है ।चावल के तेल का बाजार हर साल बढ रहा है । खाद्य तेल बनाने वाली कंपनीया इस तेल की मॉग पूरी करने के लिए अपना उत्पादन बढा रही है । धान का तेल निकालने बाले नए…

बेरी के बेर और आय के ढेर !

फरवरी महिने मे बेर का सीजन  आते ही ही बेरी के झाडो पर पके हुए बेर लद जाते है ।और बेर के पके हुए फलो की झडी लग जाती है ।गॉव दिहात मे बेरो के झाडो के नीचे पके हुए खट्टे मीठे बेर के फल बिछे रहते है और लोग  इन फलो को अपने पैरो तले कुचलते हुए इनके  उपर से निकल जाते है पर यह लोग  इनकी कीमत नही समझते है ।अगर  इन बेरो को बच्चों से रोज बिनवा कर इकट्ठा कर लिया जाए और  इनहे धूप मे सुखालिया जाए ।और फिर अॉफ सीजन मे शहर के किसी बेरो के खरीददा को बेचा जाय तो यह बेर 20 रू किलो तक बिकते है । क्योकि अॉफ सीजन मे लोग बेरो को उवाल कर खाना बहुत पसंद करते है । एक बेर के झाड से 50 से 200 किलो तक बेर पूरे सीजन मे मिलते है ।जिस ग्रामीण जन के पास पास बेरी के दो चार झाड हो वह  एक सीजन मे बेर से 10_15 हजार रुपय सहज की कमा सकता है । और बेर  उसकी  आय का एक छोटा ही सही पर जरिया बन सकता है । तो फिर देर किस बात की करे बेर  इकट्ठे ।
अगर बेर के झाड न भी हो तो इनहे बाजार से बडे आकार के बेर खरीद कर खाए और  इनकी गुठली इकटठी रख ले और बारिश शुरू होने के बाद जुलाई मे इन बीजो को माकान के पास की खाली जगह पर जमीन मे एक  इच निचे…

भीम एप्प की पूरी जानकारी ।

भीम एप दिसंवर 2016 को जारी हुआ । तभी से हय  एप सुर्खीयो मे बना है ।और भारत मे यह  एप सबसे जादा डाऊनलोड किया जा रहा है ।और  अब भारत सरकार इसका प्रचार बडी तेजी से कर रही ।भारत मे सरकार डिजिटल मनी के लेनदेन को बढाने के लिए लोगो को भीम  एप का उपयोग करने की सलाह दे रही है ।इस  एप का नाम बाबा साहव भीम राव  अंबेडकर के नाम पर रखा गया है ।  भीम  एप  एंड्राइड मोवाइल पर काम करता है और  इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है । फ्री मे ' यह  एप हिंदी अंग्रेजी भाषा के साथ ही अन्य भरतिय भाषाओ मे भी काम करेगा । भीम  एप लगभग सभी भारतिय बैंको के लिए काम करता है ।
भीम एप को डाउनलोड करने के लिए गूगल सर्चबाक्स मे 'भीम  एप डाउनलोड 'टाइप करे और सर्चकरे आने बाले परिणामो मे से किसी भी एक पर क्लिक करे और वहाँ से यह  एप लोड करे । इसके बाद  इंसकाल करे ।फिर एप को खोले 'और मेन मेनू मे जाए ' बैंक एकाउंट स्लेक्ट करे ' अब सेट upi पिन अॉप्सन चुने 'अब  अपने atmकार्ड का छह  अंक का नं डाले समाप्ती तारीख सहित ' इसके बाद otp मिलने पर  इसे एप मे डायल करे ' अब  अपना upiपिन बनाए । …

सबसे सरल विजनस नेटवर्क मार्केटिंग ।

मल्टी लेवल मार्केटिंग या नेटवर्क मार्केटिंग को डायरेक्ट सेलिंग भी कहते है । यह विजनस सबसे पहले कनाडा मे शुरू हुआ था । इस सिस्टम से कंपनी अपने उत्पाद सीधे ग्राहक तक पहुचाती हैं और  उन विजनस करने का भी मोका देतीं है । यह विजनस सबसे सरल विजनस है । नेटवर्क मार्केटिंग का विजनस कोई भी व्यक्ति कर सकता है और  आय पा सकता है ।क्योंकि इस काम मे न  अधिक पढाई लिखाई की जरूरत होती है 'न रूपयो की ना अधिक मेहनत की और ना समय का बंधन ना उम्र की सीमा ' इस विजनस मे स्थान की भी जरूरत नही पडती है ।जव चाहे जितना चाहे जहाँ चाहे काम करे ओर पैसा कमाए । और यह विजनस करने की ट्रेनिंग भी कपनी अपने ग्राहको को फ्री मे देती है । बस  अपनी मन पसंद नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी को चुनकर  उसकी ज्वाइनिंग लेना होता है । इन कपनीयो की ज्वाइनिंग जीरो से लेकर 15 हजार रूपये तक है । इसके बाद हमे उस कंपनी के उत्पाद खरीदना होता है । तो वह तो हम दुशरी कंपनी के भी खरीदकर स्तमाल करते है । अब  अपनी कंपनी के खरीदकर  उपयोग करे जिन पर हमे कमीशन भी मिलेगा ।और हम दूशरो को कंपनी मे ज्वाइन करेगे और वह लोग भी कंपनी के प्रोडक्ट खरीदेगे उन प…