दूशरा मोगली ।

मोगली 💃
सर विलियम हेनरी ने एक एसे बालक का उल्लेख किया था  जो जंगल मे भेडियो के बीच पला बढा था । यह बालक मध्य प्रदेश मे सिवनी जिले के संतबाउडी गाव मे सन 1831 मे पाया गया था ।
इस बालक के आधार पर लेखक रुडयार्ड किपलिंग  ने "दा जंगल बुक " नामक किताव लिखी है । इस किताव की कहानी का मुख्य पात्र मोगली है जो जगल मे जंगली जानवरो के बीच रहता है । दा जंगल बुक पर  एक बहुत ही रोमांचक कारटून फिल्म भी बनी है जो बच्चो की सबसे पसंदीदा फिल्म है ।
दूशरा मोगली ।
यह  एक  एसा बिचित्र बालक है जो अभी है ।यह बालक मध्य प्रदेश के रायसेन जिला के किनगी गाव मे रहता है ।यह बालक मोगली की तरह जंगली जानवरो मे तो नही रहता पर यह  एक र्दजन कुत्तो के बीच मे रहता है ।यह बालक कुत्तो से इतना घुला मिला है की सारे कुत्ते इसके इशारे पर चलते है ।यह बालक  इन कुत्तो की भाषा समझता है । सुवह होते ही यह  अट्ठा नाम का लडका अपने डोगस फ्रैंस के साथ घूमने निकल जाता है जहाँ कही भी कोई मरा हुआ मबेशी देखकर यह बालक  अपने दोस्तों को खिलाता है ।यह लडका आदमीओ मे कम कुत्तो मे अधिक रहता है । इस दूशरे मोगली मे एक  और खूबी है यह बालक जानी लीवर की तरह कॉमेडी भी करता है । इसकी शक्ल की कुछ  अलग सी है कुलमिलाकर यह दूशरा मोगली आम नही कुछ खास है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दुकानों की बिक्री बढाने के तरीके ।

जमीन मे सोने की खोज ।

सबसे मेहगे मेवा की खोज ।